mahalakshmi-aarti-image-download-2

Mata Mahalaxmi ji ki Aarti lyrics in hindi download pdf: Lakshmi mata is the Goddess of wealth and prosperity. Anyone recite laxmi aarti lyrics, blessed with  wealth and prosperity. With many mantra of Lakshmi mata, laxmi mata ki aarti can also be chanted. Shri Mahalaxmi  Aarti जय देवी जय देवी जय महालक्ष्मीRead More →

Shri Radha Krishna Aarti

Shri Radha Krishna Aarti: We have here Shri Radha Krishna Aarti is devotional , Spiritual bhajan / song. Shri Radha Krishna Aarti ॐ जय श्री राधा जय श्री कृष्ण श्री राधा कृष्णाय नमः ll घूम घुमारो घामर सोहे जय श्री राधा पट पीताम्बर मुनि मन मोहे जय श्री कृष्ण l जुगलRead More →

Maa-durga-aarti

Shri Durga Maa ki Aarti lyrics hindi: The Adi Shakti Durga  is considered to be most powerful level of Hinduism. Maa Durga is supposed to be the providing All the pleasures of the physical world. Devotees can complete all your wishes to their devotion. People in the practice of aarti for the worship ofRead More →

Lord Shiv ji somvar vrat katha

Somvaar Vrat Katha: Somvaar fast vrat or upvas being done on Monday for Shivji . We have here the vrat katha in hindi. we also have vrat katha in English and aarti on another page coming up soon. बहुत समय पहले एक नगर में एक धनाढ्य व्यापारी रहता था। दूर-दूर तक उसका व्यापार फैलाRead More →

Mahalaxmi Vrat Katha एक बार महालक्ष्मी का त्यौहार आया. हस्तिनापुर में गांधारी ने नगर की सभी स्त्रियों को पूजा का निमंत्रण दिया परन्तु कुन्ती से नहीं कहा. गांधारी के १०० पुत्रो ने बहुत सी मिट्टी लाकर एक हाथी बनाया और उसे खूब सजाकर महल में बीचो बीच स्थापित किया सभीRead More →

दोहा : * जोग लगन ग्रह बार तिथि सकल भए अनुकूल। चर अरु अचर हर्षजुत राम जनम सुखमूल॥190॥ भावार्थ:-योग, लग्न, ग्रह, वार और तिथि सभी अनुकूल हो गए। जड़ और चेतन सब हर्ष से भर गए। (क्योंकि) श्री राम का जन्म सुख का मूल है॥190॥ चौपाई : * नौमी तिथिRead More →

* गिरि कानन जहँ तहँ भरि पूरी। रहे निज निज अनीक रचि रूरी॥ यह सब रुचिर चरित मैं भाषा। अब सो सुनहु जो बीचहिं राखा॥3॥ भावार्थ:-वे (वानर) पर्वतों और जंगलों में जहाँ-तहाँ अपनी-अपनी सुंदर सेना बनाकर भरपूर छा गए। यह सब सुंदर चरित्र मैंने कहा। अब वह चरित्र सुनो जिसेRead More →

दोहा : * जानि सभय सुर भूमि सुनि बचन समेत सनेह। गगनगिरा गंभीर भइ हरनि सोक संदेह॥186॥ भावार्थ:-देवताओं और पृथ्वी को भयभीत जानकर और उनके स्नेहयुक्त वचन सुनकर शोक और संदेह को हरने वाली गंभीर आकाशवाणी हुई॥186॥ चौपाई : * जनि डरपहु मुनि सिद्ध सुरेसा। तुम्हहि लागि धरिहउँ नर बेसा॥Read More →

पृथ्वी और देवतादि की करुण पुकार चौपाई : * बाढ़े खल बहु चोर जुआरा। जे लंपट परधन परदारा॥ मानहिं मातु पिता नहिं देवा। साधुन्ह सन करवावहिं सेवा॥1॥ भावार्थ:-पराए धन और पराई स्त्री पर मन चलाने वाले, दुष्ट, चोर और जुआरी बहुत बढ़ गए। लोग माता-पिता और देवताओं को नहीं मानतेRead More →

चौपाई : * सुनु मुनि कथा पुनीत पुरानी। जो गिरिजा प्रति संभु बखानी॥ बिस्व बिदित एक कैकय देसू। सत्यकेतु तहँ बसइ नरेसू॥1॥ भावार्थ:-हे मुनि! वह पवित्र और प्राचीन कथा सुनो, जो शिवजी ने पार्वती से कही थी। संसार में प्रसिद्ध एक कैकय देश है। वहाँ सत्यकेतु नाम का राजा रहताRead More →