Sankat Mochan Hanuman ashtak in Hindi

Sankat Mochan Hanuman ashtak: 

बाल समय रवि भक्षी लियो तबतीनहुं लोक भयो अंधियारों I
ताहि सों त्रास भयो जग कोयह संकट काहु सों जात  टारो I
देवन आनि करी बिनती तब,छाड़ी दियो रवि कष्ट निवारो I
को नहीं जानत है जग में कपिसंकटमोचन नाम तिहारो I को
बालि की त्रास कपीस बसैं गिरि,जात महाप्रभु पंथ निहारो I
चौंकि महामुनि साप दियो तब ,चाहिए कौन बिचार बिचारो I
कैद्विज रूप लिवाय महाप्रभु,सो तुम दास के सोक निवारोको

Sankat Mochan Hanuman ashtak अंगद के संग लेन गए सिय,खोज कपीस यह बैन उचारो
जीवत
ना बचिहौ हम सो  जु ,बिना सुधि लाये इहाँ पगु धारो I
हेरी थके तट सिन्धु सबे तब ,लाए सियासुधि प्राण उबारोको

hanuman-Ashok-Vatika-1रावण त्रास दई सिय को सब ,राक्षसी सों कही सोक निवारो I
ताहि समय हनुमान महाप्रभु ,जाए महा रजनीचर मरो I
चाहत सीय असोक सों आगि सु ,दै प्रभुमुद्रिका सोक निवारोको

Shri-Hanuman-Ashtak-Photo-1 बान लाग्यो उर लछिमन के तब ,प्राण तजे सूत रावन मारो I
लै गृह बैद्य सुषेन समेत ,तबै गिरि द्रोण सु बीर उपारो I
आनि सजीवन हाथ  दिए तब ,लछिमन के तुम प्रान उबारो I को

रावन जुध अजान कियो तब ,नाग कि फाँस सबै सिर डारो I
श्रीरघुनाथ समेत सबै दल ,मोह भयो यह संकट भारो I
आनि खगेस तबै हनुमान जु ,बंधन काटि सुत्रास निवारोको

बंधू समेत जबै अहिरावन, लै रघुनाथ पताल सिधारो I
देबिन्हीं पूजि भलि विधि सों बलि ,देउ सबै मिलि मन्त्र विचारो I
जाये सहाए भयो तब ही ,अहिरावन सैन्य समेत संहारो I को

काज किये बड़ देवन के तुम ,बीर महाप्रभु देखि बिचारो I
कौन सो संकट मोर गरीब को ,जो तुमसे नहिं जात है टारो I
बेगि हरो हनुमान महाप्रभु ,जो कछु संकट होए हमारोको

दोहा
लाल देह लाली लसे , अरु धरि लाल लंगूर I
वज्र देह दानव दलन , जय जय जय कपि सूर II

More posts about Hanuman ji Mantra, aarti, Bahuk, Chalisa and Images etc :

More posts about Shani Dev ji aarti, Chalisa and Images etc :

Complete List of featured pages such as other pages with Good morning wishes with Hindu God images or pictures:

Please do share this with friend near and dear ones on social networking sites such as facebook, fb, whatsapp, hike, bbm, we chat, pinterest, twitter, digg etc.