श्री राम चालीसा दोहा गणपति चरण सरोज गहि । चरणोदक धरि भाल ।। लिखौं विमल रामावली । सुमिरि अंजनीलाल ।। राम चरित वर्णन करौं । रामहिं हृदय मनाई ।। मदन कदन रत राखि सिर । मन कहँ ताप मिटाई ।। चौपाई राम रमापति रघुपति जै जै । महा लोकपति जगपतिRead More →

श्री गिरिराज जी चालीसा दोहा बँडहू वीदा वाडिनी, धरी गणपति को धीयाना | महाशक्ति राधा सहित, कृशन करो कल्लयन || चौपाई जय हो जय बंधित्त डिरिराजा | वाज्रर मंडल के श्री महाराजा || विष्णु रूप हो तुम अवतारी | सुंदरता पे जाग बलिहारी || सवर्ण शिखर आती सोभा पामे |Read More →

श्री गुरु गोरख नाथ चालीसा   दोहा गणपति गिरजा पुत्रा को, सुमृू बरमम्बर | हाथ जोड़ बिनटी करू, सारद नाम आधार || चौपाई जय जय जय गोरख अविनसी | किरपा करो गुरुदेव प्रकसी || जय जय जय गोरख गुड गनी | इच्छा रूप योगी वरदानी || अलख निरंजन तुम्हरो नामाRead More →

shri-surya-dev-ji-Chalisa-bolguru-com

Shri Surya Dev Chalisa in Hindi: Shri Surya dev, Hindu God Surya Dev ( Sun ) is worshiped by Hindus. shri Surya dev has been given names including Aditya, Arka, Bhanu, Savitr, Pushan, Ravi, Martanda, Mitra and Vivasvan. Surya dev is worshiped in morning just after sunrise with offering water (Read More →

श्री तुलसी चालीसा दोहा जयजयतुलसीभगवतीसत्यावतीसुखड़ानी नामोनामोहरीप्रियासीश्रीवृंदागुणख़नी श्रीहरीशीशबिराजीनी, दहूअमरवारआंब जनहितहेवृंदवणीअबनकराहूविलंब   चौपाई धन्यधन्यश्रीतुलसीमाता , महिमाअगमसदाश्रुतिगाता हरीकेप्रानहूसेतुमप्यारी, हरीहिहेतुकिन्होतापभारी जबप्रसन्नहैदर्शनडीनहयो, तबकरज़ोरीविनयउसकिन्यो हेभगवंतकांतममहोहू , दींजानीजानीचाड़हूछोहू सुनीलक्ष्मीतुलसीकीबनी, डीन्ोश्रापकढ़पेरआनी. उसअयोग्यावारमाँगणहारी , होहूविटपतुमजड़टानूधरी सुनीतुलसिहीश्रपयोतहीथमा , कारहूवासटूहुनीचनधमा डियोवचनहरीतबतत्कला , सुनहूसुमुखीजाहोहूबिहला समयपाईव्हौपतितोरा , पूजाहोआसवचनसातमोर तबगोकुलमाहगोपसुदामा , तासूभाईतुलसीतूबामा कृष्णरासलीलाकेमाही , राधेशाकयोप्रेमलाखीनही डियोश्रापतुलसीहतत्कला , नरलोकीतुमजन्महूबाला योगोपवहदानवराजा , शंखचुड़नमकशिरताज़ा तुलसीभाईतासूकीनारी , परमसतीगुणरूपअगारीRead More →

मा शकुंभारी देवी चालीसा दोहा दाहिने भीमा ब्रामरी अपनी छवि दिखाए | बाई ओर सतची नेत्रो को चैन दीवलए | भूर देव महारानी के सेवक पहरेदार | मा शकुंभारी देवी की जाग मई जे जे कार ||   चौपाई जे जे श्री शकुंभारी माता | हर कोई तुमको सिष नवताRead More →

मा बृजेश्वरी देवी चालीसा दोहा शक्ति पीठ सूभ कांगड़ा बरिजेस्वरी सूभ धाम | ब्रह्ममा विष्णु ओर शिव करते तुम्हे प्रडम || धीयाँ भारू मा आपका ज्योति अखंध स्वरूप | टीन लोक के प्राडो को देते छाया धूप || चौपाई जय जय गौरी कांगदे वा;ओ | बरिजेस्वरी आमम्बा महाकाली || सतीRead More →

Naina Devi Chalisa दोहा नेनो बस्ती छवि सकता दुरगे नेना मॅट | प्रथा काल सिमरन कारू की विख्यात जग हैं | सुख वैभव साब आपके चरणो का प्रताप | ममता अपनी दीजिए माई बालक कारू जाप | | चोपैई नमस्कार हैं नेना माता | दीन दुखी की भाग्य विधाता |Read More →

श्री काली माता जी की चालीसा जयकाली कलिमलहरण, महिमा अगम अपार । महिष मर्दिनी कालिका , देहु अभय अपार ॥ अरि मद मान मिटावन हारी । मुण्डमाल गल सोहत प्यारी ॥ अष्टभुजी सुखदायक माता । दुष्टदलन जग में विख्याता ॥ भाल विशाल मुकुट छवि छाजै । कर में शीश शत्रुRead More →

नवग्रह चालीसा श्री गणपति ग़ुरुपद कमल, प्रेम सहित शिरानाया lनवग्रह चालीसा कहत,शारद होत सहाय ll जय जय रवि शशि सोम बुध,जय गुरु भ्रगु शनि राज ll जयति राहू अरु केतु ग्रह, करहु अनुग्रह आजा ll श्री सूर्य स्तुति प्रथमही रवि कहं नावौ माथा, करहु कृपा जन जानी अनाथा l हेRead More →