chalisa sangrah

श्री राम चालीसा / Sh. Ram Chalisa

श्री राम चालीसा दोहा गणपति चरण सरोज गहि । चरणोदक धरि भाल ।। लिखौं विमल रामावली । सुमिरि अंजनीलाल ।। राम चरित वर्णन करौं । रामहिं हृदय मनाई ।। मदन…
Continue Reading
chalisa sangrah

श्री गिरिराज जी चालीसा / Sh. Giriraj Chalisa

श्री गिरिराज जी चालीसा दोहा बँडहू वीदा वाडिनी, धरी गणपति को धीयाना | महाशक्ति राधा सहित, कृशन करो कल्लयन || चौपाई जय हो जय बंधित्त डिरिराजा | वाज्रर मंडल के…
Continue Reading
chalisa sangrah

श्री गुरु गोरख नाथ चालीसा / Sh. Guru Gorakhnath Chalisa

श्री गुरु गोरख नाथ चालीसा   दोहा गणपति गिरजा पुत्रा को, सुमृू बरमम्बर | हाथ जोड़ बिनटी करू, सारद नाम आधार || चौपाई जय जय जय गोरख अविनसी | किरपा…
Continue Reading
chalisa sangrah

श्री तुलसी चालीसा / Sh. Tulsi Chalisa

श्री तुलसी चालीसा दोहा जयजयतुलसीभगवतीसत्यावतीसुखड़ानी नामोनामोहरीप्रियासीश्रीवृंदागुणख़नी श्रीहरीशीशबिराजीनी, दहूअमरवारआंब जनहितहेवृंदवणीअबनकराहूविलंब   चौपाई धन्यधन्यश्रीतुलसीमाता , महिमाअगमसदाश्रुतिगाता हरीकेप्रानहूसेतुमप्यारी, हरीहिहेतुकिन्होतापभारी जबप्रसन्नहैदर्शनडीनहयो, तबकरज़ोरीविनयउसकिन्यो हेभगवंतकांतममहोहू , दींजानीजानीचाड़हूछोहू सुनीलक्ष्मीतुलसीकीबनी, डीन्ोश्रापकढ़पेरआनी. उसअयोग्यावारमाँगणहारी , होहूविटपतुमजड़टानूधरी सुनीतुलसिहीश्रपयोतहीथमा , कारहूवासटूहुनीचनधमा डियोवचनहरीतबतत्कला…
Continue Reading
chalisa sangrah

मा शकुंभारी देवी चालीसा / Maa Shakumbhari Devi Chalisa

मा शकुंभारी देवी चालीसा दोहा दाहिने भीमा ब्रामरी अपनी छवि दिखाए | बाई ओर सतची नेत्रो को चैन दीवलए | भूर देव महारानी के सेवक पहरेदार | मा शकुंभारी देवी…
Continue Reading
chalisa sangrah

मा बृजेश्वरी देवी चालीसा / Maa Brijeshwari Devi Chalisa

मा बृजेश्वरी देवी चालीसा दोहा शक्ति पीठ सूभ कांगड़ा बरिजेस्वरी सूभ धाम | ब्रह्ममा विष्णु ओर शिव करते तुम्हे प्रडम || धीयाँ भारू मा आपका ज्योति अखंध स्वरूप | टीन…
Continue Reading
chalisa sangrah

Naina Devi Chalisa

Naina Devi Chalisa दोहा नेनो बस्ती छवि सकता दुरगे नेना मॅट | प्रथा काल सिमरन कारू की विख्यात जग हैं | सुख वैभव साब आपके चरणो का प्रताप | ममता…
Continue Reading
chalisa sangrah

श्री काली माता जी की चालीसा / Sh. Kali Mata Chalisa

श्री काली माता जी की चालीसा जयकाली कलिमलहरण, महिमा अगम अपार । महिष मर्दिनी कालिका , देहु अभय अपार ॥ अरि मद मान मिटावन हारी । मुण्डमाल गल सोहत प्यारी…
Continue Reading
chalisa sangrah

नवग्रह चालीसा / Navgrah Chalisa

नवग्रह चालीसा श्री गणपति ग़ुरुपद कमल, प्रेम सहित शिरानाया lनवग्रह चालीसा कहत,शारद होत सहाय ll जय जय रवि शशि सोम बुध,जय गुरु भ्रगु शनि राज ll जयति राहू अरु केतु…
Continue Reading
12