Why and When Makar Sankranti celebrated – मकर संक्रांति क्यों और कब मनाई जाती है

Makar Sankranti is very famous and important harvest festival celebrated in various parts of India. According to the lunar calendar, when the sun moves from the Tropic of Cancer to the Tropic of Capricorn or from Dakshinayana to Uttarayana, in the month of Poush in mid-January, Date : 14 Jan. it means the beginning of the harvest season and cessation of the northeast monsoon in South India. The movement of the earth from one zodiac sign into another is called Sankranti and as the Sun moves into the Capricorn zodiac known as Makar in Hindi, this occasion is named as Makar Sankranti in the Indian context.

Happy-Makar_sakranti_3


Makar Sankranti, apart from a harvest festival is also regarded as the beginning of an auspicious phase in Indian culture. It is said as the ‘holy phase of transition’. It marks the end of an inauspicious phase which according to the Hindu calendar begins around mid-December. It is believed that any auspicious and sacred ritual can be sanctified in any Hindu family, this day onwards. Scientifically, this day marks the beginning of warmer and longer days compared to the nights. In other words, Sankranti marks the termination of winter season and beginning of a new harvest or spring season.

मकर संक्रांति हिंदू धर्म का प्रमुख त्यौहार है। यह पर्व पूरे भारत में किसी न किसी रूप में मनाया जाता है।  पौष मास में जब सूर्य मकर राशि पर आता है तब इस संक्रांति को मनाया जाता है।

यह त्यौहार  अधिकतर जनवरी माह की चौदह तारीख को मनाया जाता है। कभी-कभी यह त्यौहार बारह, तेरह या पंद्रह को भी हो सकता है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि सूर्य कब धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है। इस दिन से सूर्य की उत्तरायण गति आरंभ होती है और इसी कारण इसको उत्तरायणी भी कहते हैं।

मकर संक्रांति से कई पौराणिक कथाएं जुड़ी हुई हैं।

कहा जाता है कि इस दिन भगवान सूर्य अपने पुत्र शनि से मिलने स्वयं उसके घर जाया करते हैं। शनिदेव चूंकि मकर राशि के स्वामी हैं, अत: इस दिन को मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है।

मकर संक्रांति के दिन ही गंगाजी भागीरथ के पीछे-पीछे चलकर कपिल मुनि के आश्रम से होकर सागर में जा उनसे मिली थीं। यह भी कहा जाता है कि गंगा को धरती पर लाने वाले महाराज भगीरथ ने अपने पूर्वजों के लिए इस दिन तर्पण किया था। उनका तर्पण स्वीकार करने के बाद इस दिन गंगा समुद्र में जाकर मिल गई थी। इसलिए मकर संक्रांति पर गंगा सागर में मेला लगता है।

महाभारत काल के महान योद्धा भीष्म पितामह ने भी अपनी देह त्यागने के लिए मकर संक्रांति का ही चयन किया था। 

इस त्यौहार को अलग-अलग प्रांतों में अलग-अलग नाम से मनाया जाता है। मकर संक्रांति को तमिलनाडु में पोंगल के रूप में तो आंध्रप्रदेश, कर्नाटक व केरला में यह पर्व केवल संक्रान्ति के नाम से जाना जाता है।

इस दिन भगवान विष्णु ने असुरों का अंत कर युद्ध समाप्ति की घोषणा की थी व सभी असुरों के सिरों को मंदार पर्वत में दबा दिया था। इस प्रकार यह दिन बुराइयों और नकारात्मकता को खत्म करने का दिन भी माना जाता है।

यशोदा जी ने जब कृष्ण जन्म के लिए व्रत किया था तब सूर्य देवता उत्तरायण काल में पदार्पण कर रहे थे और उस दिन मकर संक्रांति थी। कहा जाता है तभी से मकर संक्रांति व्रत का प्रचलन हुआ। 

Happy Makar Sankranti 2020
Spread the love
  •  
  •  
  •   
  •   
  •   
  •   
  •   
  •  
  •